बीजेपी को वोट ना देने की 25 वजह

Narendra Modi with bjp symbol

आने वाले आम चुनावों में वोट डालने से पहले इन 25 बातों पर विचार किया जाना चाहिए क्योंकि इससे आपका जीवन सीधे-सीधे प्रभावित होता है. आपको मौजूदा सरकार का वोट क्यों नहीं देना चाहिए, उसके 25 कारण…

1) एलपीजी की कीमतें

गैस सिलिंडर का दाम 800 रुपये से ज्यादा हो चुका है. यह 2014 की कीमत से दोगुना है.

2) रुपये की कीमत

भारतीय रुपये की कीमत में ऐतिहासिक गिरावट आ चुकी है. एशिया की सबसे कम कीमत वाली करंसी है भारतीय रुपया.

3) महंगी रेल यात्रा

रेल का किराया ऐतिहासिक रूप से बढ़ा है. न्यूनतम कीमत 5 रुपये से बढ़ाकर 10 रुपये कर दी गई है. हर तरह की रेल यात्रा महंगी हो चुकी है.

4) नोटबंदी

नरेंद्र मोदी के सबसे बड़े फैसले नोटबंदी के दौरान वादा किया गया था कि 30 फीसदी नोट बाजार में वापस नहीं आएंगे. लेकिन 99.3 फीसदी नोट वापस आ गए. इस फैसले ने देशभर में 100 से ज्यादा लोगों की जान ली. हजारों के रोजगार छिने. सैकड़ों छोटे व्यापार बंद हो गए.

5) ‘मुझे 50 दिन दीजिए’

नोटबंदी के ऐलान के वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि मुझे 50 दिन दीजिए और अगर नोटबंदी गलत साबित हो जाए तो कोई भी सजा दे दीजिएगा. नोटबंदी एक ऐतिहासिक गलती साबित हो चुकी है.

6) रफाएल समझौता

रफाएल को लेकर सरकार के कई झूठ एक के बाद एक सामने आ चुके हैं. इसे बहुत से लोग अब तक का सबसे बड़ा घोटाला कहते हैं. सरकार एक बार भी साफ साफ नहीं बता पाई है कि विमान कितने का खरीदा गया और क्यों. अलग अलग जगह से आई कीमतें बताती हैं कि फ्रांस से यह विमान 1526 करोड़ में खरीदा गया है जबकि वही विमान कतर और मिस्र को 700 करोड़ में मिला है. इस बात की कोई सफाई नहीं है कि अनिल अंबानी की नई नवेली कंपनी को इस अहम समझौते में हिस्सेदार क्यों बनाया गया. फ्रांसीसी मीडिया की रिपोर्ट बताती हैं कि फ्रांस की सरकार ने उसी वक्त अंबानी की कंपनी का टैक्स माफ कर दिया जब भारत ने राफाएल खरीदा और अंबानी को साझीदार बनाया.

7) काला धन नहीं आया

2014 के चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि 100 दिन के भीतर काला धन वापस लाया जाएगा. सच यह है कि एक भी पैसा वापस नहीं आया. एचएसबीसी ने जो 673 नामों की लिस्ट दी थी, उसे भी सार्वजनिक नहीं किया गया.

8) दो करोड़ नौकरियों का झूठ

2014 में वादा किया गया था कि दो करोड़ नौकरियां पैदा होंगी. लेकिन देश में बेरोजगारी अपने ऐतिहासिक स्तर पर है. और नोटबंदी के कारण लगी- लगाई नौकरियां छीनी गईं सो अलग.

9) कॉरपोरेट को मिले कर्ज

आरबीआई के मुताबिक बड़ी बड़ी कंपनियों के 2.4 लाख करोड़ के कर्जे माफ कर दिए गए जबकि छोटे छोटे कर्जों के बोझ में किसान आत्महत्या कर रहे हैं.

10) किसानों की आत्महत्या

देश में किसानों की आत्महत्याएं 40 फीसदी बढ़ी हैं. उनमें से ज्यादातर उन राज्यों में हैं जहां बीजेपी की ही सरकारें हैं.

11) जीएसटी

जिस जीएसटी का मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी तगड़ा विरोध करते थे, उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गाजे बाजे के साथ लागू कर दिया. हालांकि उसके बाद देशभर में ऐसी अफरा तफरी फैली की व्यापारी तबाह होने लगे.

12) मुश्किल में बैंक

भारत के जिन बैंकों ने 2008 की ऐतिहासिक मंदी तक आराम से झेल ली थी, उनकी हालत खस्ता हो चुकी है. सिर्फ पिछली तिमाही में बैंकों को 44 हजार करोड़ का घाटा हुआ है.

13) खेती किसानी खत्म

कृषि क्षेत्र देश में 4 से 5 फीसदी की दर से बढ़ रहा था. अब यह वृद्धि दर 2 फीसदी पर आ गई है.

14) डूबता निर्यात

देश का व्यापार घाटा लगातार बढ़ रहा है. यह 9 अरब डॉलर पर पहुंच चुका है.

15) सबसे ज्यादा सैनिकों की मौतें

साउथ एशिया टेररिस्ट पोर्टल की रिपोर्ट है कि 2014 के बाद भारत में 2191 सैनिकों की मौत हुई है, जो पिछले साल के मुकाबले 72 फीसदी ज्यादा है.

16) आतंकवादी घटनाएं और ज्यादा मौतें

सिर्फ कश्मीर में आतंकी घटनाओं में 42 फीसदी की बढ़त देखी गई है. आतंकवादी घटनाओं में मरने वाले आम लोगों की संख्या 37 फीसदी बढ़ी है.

17) बैंकों के डूबते कर्जे

बैंकों के डूबते कर्जे दो लाख करोड़ से बढ़कर 10 लाख करोड़ हो गए हैं. यह अब तक का सबसे ज्यादा एनपीए है.

18) भगौड़े कर्जदार

नीरव मोदी, विजय माल्या, विक्रम कोठारी और मेहुल चौकसी समते कितने ही भगोड़े एक एक करके देश से भाग गए और सरकार देखती रही.

19) स्विस बैंकों में बढ़ता धन

भारत से स्विस बैंकों में जमा धन में 50 प्रतिशत की बढ़त हुई है.

20) कत्लेआम

रॉयटर्स के मुताबिक भारत में 2010 से 2017 के बीच कथित गोरक्षकों ने 63 हमले किए हैं जिनमें 28 भारतीयों की मौत हुई और 124 घायल हुए. ज्यादातर मामले 2014 के बाद के हैं.

21) गंगा की हालत

नरेंद्र मोदी खुद को गंगापुत्र कहते हुए प्रधानमंत्री बने थे. 20 हजार करोड़ के नमामि गंगे प्रोजेक्ट के बावजूद गंगा की हालत बद से बदतर हुई है.

22) वाराणसी की हालत

प्रधानमंत्री मोदी का लोकसभा क्षेत्र वाराणसी दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल हो गया है.

23) जय अमित शाह की संपत्ति

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय की संपत्ति एक साल में 16 हजार गुना बढ़ गई.

24) विदेश यात्राओं पर खर्च

नरेंद्र मोदी ने पांच साल में विदेश यात्राओं पर 1484 करोड़ रुपये खर्च किए हैं. विदेश नीति के नाम पर भारत सिर्फ ढोल बजा सका है. अमेरिका ने भारत का विशेष दर्जा छीन लिया है. ऑस्ट्रेलिया मुक्त व्यापार समझौता ना हो पाने के कारण नाराज है. चीन आज भी पाकिस्तान के साथ खड़ा है.

25) मोदी का काम

और सबसे बड़ी वजह है प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी का काम. अपने पहले करीब चार साल या 1475 दिन के कार्यकाल में उन्होंने 800 दिन रैलियों में बिताए. 200 दिन विदेशों में. और 19 दिन संसद में.

Leave a Reply

%d bloggers like this: